आ अब लौट चलें..📘📒📙

यूनेस्कों ने 23 अप्रैल 1995 को इस दिवस को मनाने की शुरुआत की थी. पेरिस में यूनेस्को की एक आमसभा में फैसला लिया गया था कि दुनिया भर के लेखकों का सम्मान और श्रद्धांजली देने व किताबों के प्रति रुचि जागृत करने के लिए हर साल विश्व पुस्तक दिवस मनाया जाएगा ।
23 अप्रैल को वर्ल्ड बुक डे के रूप में मनाने की एक वजह ये भी है कि इस दिन कई प्रमुख लेखक या पैदा हुए थे या उनकी मृत्यु हो गई थी. विलियम शेक्सपियर, मिगुएल डे सर्वेंट्स और जोसेप प्लाया का 23 अप्रैल को निधन हुआ था जबकि मैनुएल मेजिया वल्लेजो और मौरिस ड्रून 23 अप्रैल के दिन पैदा हुए थे. 23 अप्रैल 1564 को एक ऐसे लेखक दुनिया से अलविदा हुए, जिनकी कृतियों का विश्व की लगभग सभी भाषाओं में अनुवाद किया गया है। जिसने अपने जीवन काल में करीब 35 नाटक और 200 से अधिक कविताएं लिखीं। यह लेखक थे शेक्सपीयर। साहित्य जगत में शेक्सपीयर का जो स्थान है उसे देखते हुए ही यूनेस्को ने 1945 से विश्व पुस्तक दिवस का आयोजन शुरू किया।भारत सरकार ने 2001 से इस दिन को मनाने की घोषणा की।

पिछले एक वर्ष से हम सब कोरोनाकाल होने के कारण ज्यादातर समय घर पर ही बिता रहे है और बाहर जाना सीमित करना पड़ा है। घर में हमारे पास हमारे सच्चे मित्र के रूप में किताबें जरूर मौजूद हैं जरूरत है तो बस उन्हे बुक शेल्फ़ के अंधेरे से निकाल कर, उनके साथ अपना समय व्यतीत करने की । यह समय पढ़ने के महत्व का जश्न मनाने का समय है।लॉकडाउन के इस अकेलेपन के समय में किताबें मनोरंजन के साथ जानकारी का अहम जरिया भी हैं तो आईये किताबों की ओर लौटें क्योंकि अभी पिछले कुछ सालों से किताबों पर संकट का समय चल रहा है। इसका कारण है पिछले दशकों में किताबों के विकल्प के तौर पर मोबाइल और इंटरनेट की तेजी से फ़ैल रही दृश्यात्मकता ने अपना आधिपत्य स्थापित कर लिया है। यह बच्चों को ही नहीं, बड़ों को भी समाज से काटकर अकेला करता जा रहा है। इसके कारण हम में से कई लोग आसपास की दुनिया में दिलचस्पी खोने लगे हैं। बहुत सारे मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि हमारी आने वाली पीढ़ियों को अवसाद से बचाने के लिए उन्हें फिर किताबों की दुनिया में लौटने की जरुरत है। बच्चों की सोच और कल्पना-शक्ति को बढाने में बाल साहित्य बड़ी भूमिका होती है। यह हम सबका दायित्व है कि बच्चों को मोबाइल और टेलीविज़न के ज्यादा इस्तेमाल से बचाकर उन्हें अच्छी किताबों और शिक्षाप्रद कॉमिक्स की ओर मोड़ें। हम खुद उदाहरण प्रस्तुत करेंगे तो बच्चे निश्चित रूप से हमारा अनुकरण करेंगे।
सुना है किताबें आपको जीवन का दर्शन करवाने के साथ साथ आपको अपने आप से भी मिलवाती है, जैसे ही हम उन्हें अपनी बुक शेल्फ़ के अंधरे से निकालेंगे,वैसे ही वे हमारे जीवन के बहुत से अंधकार भरे रास्तों को उजालों से भर देंगी…..। वो कहते हैं ना कि हर एक दोस्त जरूरी होता है… किताबें बहुत अच्छी दोस्त होती हैं..हमारे अकेलेपन की साथी..हमारे एकांत की हमसफर..ये बेहद सुकून देती हैं… ….,!
तो आ अब लौट चलें…..किताबों की दुनिया की ओर📚📙

जब हम घिरे होते हैं अनिश्चितताओं से,
किताबें रास्ता बन जाती हैं
जब हम घिरे होते हैं डर से,
किताबें उम्मीद बन जाती हैं
जब हम होते हैं एकाकी
किताबें यार बन जाती हैं…!!

विश्व पुस्तक दिवस पर