चौंसठ योगिनी मंदिर, भेड़ाघाट

कल दोपहर बाद हमारा भेड़ाघाट देखने का कार्यक्रम बना । वहीं भेड़ाघाट व धुआंधार जलप्रपात के नजदीक एक ऊंची पहाड़ी के शिखर पर स्थापित “चौंसठ योगिनी मंदिर” दिखा और उसे देखने की इच्छा मन में जागी तो सीढियां चढ़कर पसीने से लथपथ जब ऊपर पहुंचे तो वहां शिखर से हरी भरी भूमि और बलखाती नर्मदा नदी के विहंगम दृश्य ने मन मोह लिया ।
चौंसठ योगिनी मंदिर” जबलपुर की ऐतिहासिक संपन्नता में एक और अध्याय जोड़ता है। प्रसिद्ध संगमरमर चट्टान के पास स्थित “चौंसठ योगिनी मंदिर” का निर्माण सन् 1000 के आसपास “कलीचुरी वंश” ने करवाया था। शिल्पकला तभी विकसित हो गई थी, जब मानव सभ्यता का विकास हुआ लेकिन कलचुरि काल की पाषाणकला दूसरी शिल्पकला से एकदम हटकर है। इस काल की मूर्तियां महज एक कलाकृति नहीं बल्कि मूर्तियों के पार्श्व में किसी घटना, गूढ़ रहस्य अथवा ब्रह्मांड के किसी दर्शन के संकेत मिलते हैं।
मंदिर में प्रवेश के लिए केवल एक तंग द्वार बनाया गया है। चारदीवारी के अंदर खुला प्रांगण है, जिसके बीचों-बीच एक चबूतरा बनाया गया है। चारदीवारी के साथ दक्षिणी भाग में मंदिर का निर्माण किया गया है।

मंदिर के चारों तरफ़ करीब ऊंची गोलाई में चारदीवारी बनाई गई है, जो पत्थरों की बनी है । गोलाकार आकृति में बने इस मन्दिर की बाहरी दीवालों पर चौसठ योगिनियों की अद्भुत प्रतिमाएँ बनी हुई है । यह देखकर दुख हुआ कि सभी प्रतिमाएँ खण्डित है । कहानी वही मुस्लिम आक्रमण कारियों द्वारा इन प्रतिमाओं को खंडित किये जाने की ।
ये सभी चौंसठ योगिनी बहनें थीं तथा तपस्विनियां थीं, जिन्हें महाराक्षसों ने मौत के घाट उतारा था। राक्षसों का संहार करने के लिए यहां स्वयं दुर्गा को आना पड़ा था। इसलिए यहां पर सर्वप्रथम मां दुर्गा की प्रतिमा कलचुरी के शासकों द्वारा स्थापित कर दुर्गा मंदिर बनाया गया था तथा उन सभी चौंसठ योगिनियों की मूर्तियों का निर्माण भी मंदिर प्रांगण की चारदीवारी पर किया गया। लोगों का मानना है कि यह स्थली महर्षि भृगु की जन्मस्थली है, जहां उनके प्रताप से प्रभावित होकर तत्कालीन कलचुरी साम्राज्य के शासकों ने इस मंदिर का निर्माण करवाया था । कालांतर में मां दुर्गा की मूर्ति की जगह भगवान शिव व मां पार्वती की मूर्ति स्थापित की गई है, ऐसा जानकारी एकत्र करने में पाया ।
मंदिर के अंदर भगवान शिव व मां पार्वती की नंदी बैल पर वैवाहिक वेशभूषा में बैठे हुए पत्थर की मनमोहक प्रतिमा स्थापित है।
इसके आगे एक बड़ा-सा बरामदा है, जो खुला है। बरामदे के सामने चबूतरे पर शिवलिंग की स्थापना की गई है । यहां नियमित पूजा होती है । यह मूल प्रतिमा खण्डित नही है । मन्दिर के पुजारी के अनुसार यह विश्व में इस तरह की एकमात्र ऐसी प्रतिमा है । मैंने भी कभी इस तरह नन्दी पर विराजमान शिव पार्वती की प्रतिमा देखी या सुनी नहीं है । सामान्यतः शिव मंदिर में शिवलिंग ही प्रतिष्ठित होते है । प्रतिमा भी बड़ी आकर्षक है । मेरी तो नज़र ही नहीं हट रही थी उस प्रतिमा से । शिव-पार्वती के बगल में ही कार्तिकेय और गणेश की प्रतिमाएं विराजमान हैं, मतलब पूरा शिव परिवार ही विराजमान है यहाँ।

मंदिर को बाहर से जब आप देखते हैं तब मालूम होता है कि यह मंदिर एक विशाल परिसर में फैला हुआ है और इसके हर एक कोने से भव्यता झलकती है। फोटोग्राफी के लिए भी बहुत सुंदर जगह है । मैं इतनी बार भेड़ाघाट गई हूं पर कभी भी यह मंदिर नहीं क्यो नही देखा इसका अफसोस हुआ।
शाम हो चली थी हमे लौटना पड़ा पर मन नहीं भरा सो जल्द ही अगली बार आने का निर्णय भी ले लिया । अगर आप जबलपुर आ रहे हैं तो इस मंदिर में ज़रूर जाएं।

रानी दुर्गावती महल, मदन महल जबलपुर

रानी दुर्गावती जी के जन्मदिन पर विशेष…. 05 अक्टूबर

रानी दुर्गावती जी के बारे में कम जानने वालों में मैं भी शुमार हूँ । बचपन में जबलपुर शहर में रहते हुए भी मैं रानी दुर्गावती जी के विषय में ज्यादा नहीं जान पाई थी बस इतना ही पता था कि शहर में मदन महल क्षेत्र में रानी दुर्गावती का किला है ।
मदन महल का किला मैंने पहली बार 1976 में देखा था उसके बाद मुझे ये किला दोबारा देखने का मौका 2015 में कार्यालयीन यात्रा के दौरान मिला लेकिन इस वर्ष पदोन्नति पर जबलपुर पोस्टिंग होने के बाद अगस्त में मुझे एक बार फिर इसे देखने का अवसर प्राप्त हुआ ।
मदन महल किला उन शासकों के अस्तित्व का साक्षी है जिन्होंने यहां 11वीं शताब्दी में काफी समय के लिए शासन किया था।
राजा मदन सिंह द्वारा बनवाया गया यह किला एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। विश्व के सबसे छोटे किले दर्जे का हकदार है मदनमहल का किला….। किला इतनी उंचाई पर है .जिससे पूरा जबलपुर दिखाई पड़ता है…!! मदन शाह द्वारा निर्मित मदन महल नष्ट हो चुका है। वर्तमान में जो स्वरूप मौजूद है वह महल के पास बनाया गया वॉच टावर है, जो ऊंचाई पर होने के चलते देखरेख के काम आता था। मदन महल में कमरे हैं उंची छत है, इस मदन महल किले के पिछले कमरे में सुरंग भी है,जिसके बारे में कुछ कहा नही जा सकता कि यह सुरंग कहाँ जाकर खुलती है.. इस किले के चारों तरफ हरियाली और ग्रेनाइट की चट्टानें हैं। कई गुफाएं भी हैं, जो आकर्षण का केन्द्र हैं। यहां सुबह या फिर शाम को सूर्यास्त के समय का नजारा अद्भुत रहता है।

इस किले की जानकारी एकत्र करने पर पाया कि रानी दुर्गावती जन्म 5 अक्टूबर 1524 में उत्तर प्रदेश के बाँदा जिले में कालिंजर के राजा कीर्तिसिंह चंदेल के यहाँ हुआ था। वे अपने पिता की इकलौती संतान थीं। दुर्गाष्टमी के दिन जन्म होने के कारण उनका नाम दुर्गावती रखा गया। नाम के अनुरूप ही तेज, साहस, शौर्य और सुन्दरता के कारण इनकी प्रसिद्धि सब ओर फैल गयी।

दुर्गावती चंदेल वंश की थीं और कहा जाता है कि इनके वंशजों ने ही खजुराहो मंदिरों का निर्माण करवाया था और महमूद गज़नी के आगमन को भारत में रोका था। लेकिन 16वीं शताब्दी आते-आते चंदेल वंश की ताकत बिखरने लगी थी।

दुर्गावती बचपन से ही अस्त्र-शस्त्र विद्या में रूचि रखती थीं। उन्होंने अपने पिता के यहाँ घुड़सवारी, तीरंदाजी, तलवारबाजी जैसे युद्धकलायों में महारत हासिल की। अकबरनामा में अबुल फज़ल ने उनके बारे में लिखा है, “वह बन्दुक और तीर से निशाना लगाने में बहुत उम्दा थीं। और लगातार शिकार पर जाया करती थीं।”

1542 में, 18 साल की उम्र में दुर्गावती की शादी गोंड राजवंश के राजा संग्राम शाह के सबसे बड़े बेटे दलपत शाह के साथ हुई। मध्य प्रदेश के गोंडवाना क्षेत्र में रहने वाले गोंड वंशज 4 राज्यों पर राज करते थे- गढ़-मंडला, देवगढ़, चंदा और खेरला। दुर्गावती के पति दलपत शाह का अधिकार गढ़-मंडला पर था।

दुर्गावती का दलपत शाह के साथ विवाह बेशक एक राजनैतिक विकल्प था। क्योंकि यह शायद पहली बार था जब एक राजपूत राजकुमारी की शादी गोंड वंश में हुई थी। गोंड लोगों की मदद से चंदेल वंश उस समय शेर शाह सूरी से अपने राज्य की रक्षा करने में सक्षम रहा।
1545 में रानी दुर्गावती ने एक बेटे को जन्म दिया, जिसका नाम वीर नारायण रखा गया। लेकिन 1550 में दलपत शाह का निधन हो गया। दलपत शाह की मृत्यु पर दुर्गावती का बेटा नारायण सिर्फ 5 साल का था। ऐसे में सवाल था कि राज्य का क्या होगा?

लेकिन यही वह समय था जब दुर्गावती न केवल एक रानी बल्कि एक बेहतरीन शासक के रूप में उभरीं। उन्होंने अपने बेटे को सिंहासन पर बिठाया और खुद गोंडवाना की बागडोर अपने हाथ में ले ली। उन्होंने अपने शासन के दौरान अनेक मठ, कुएं, बावड़ी तथा धर्मशालाएं बनवाईं। वर्तमान जबलपुर उनके राज्य का केन्द्र था। उन्होंने अपनी दासी के नाम पर चेरीताल, अपने नाम पर रानीताल तथा अपने विश्वस्त दीवान आधारसिंह के नाम पर आधारताल बनवाया।

रानी का प्रजा के प्रति व्यवहार इतना अच्छा था की प्रजा रानी के लिए कुछ भी कर सकती थी ,रानी का मदन महल में एक किला था जिसमें रानी अपने परिवार के साथ रहने आया करती थी |
रानी के राज में प्रजा इतनी खुश थी की स्वेच्छा से कर के रूप में रानी को हाथी, घोडे, सोने के सिक्के दिये जाते थे ,जब इस बात का पता उस वक़्त के बादशाह अकबर को पता चला तो उन्होंने रानी दुर्गावती को एक सोने का पिंजरा भेजा जिसका अर्थ था कि स्त्रियों को पिंजरे में कैद रहना चाहिए प्रजा संभालना उनका काम नहीं ,तब रानी ने इसके जवाब में अकबर को रुई धुनने का समान भेजा था जिससे अकबर रानी से बुरी तरह से नाराज़ हो गया था ।
अकबर ने रानी पर आक्रमण करने के लिए तीन बार बाज़ बहादुर को भेजा पर रानी तीनों बार विजयी रहीं..रानी का शौर्य और पराक्रम किसी से कम ना था ये रानी ने दिखा दिया था ।
जब कुछ समय पश्चात पुनः रानी पर आक्रमण किया तब आसफ खान ने रानी के पुत्र वीरनारायण की हत्या कर दी वीरनारायण की मृत्यु से रानी विचलित हो गयी और मुगलों द्वारा घेर ली गयी और रानी पर आक्रमण होने लगे तथा रानी घायल हो गयी ,तब रानी ने गुलाम बनना स्वीकार नहीं किया ,रानी नहीं चाहती थी कि कोई उसकी देह को हाथ भी लगाये ..तब रानी ने अपनी कटार निकाल कर अपनी जीवनलीला समाप्त कर ली । रानी दुर्गावाती जब तक जी सम्मान से जी . । 39 वर्ष की आयु में रानी ने 24 जून 1564 को अपने प्राण त्याग दिए थे ।
जबलपुर के पास जहां यह ऐतिहासिक युद्ध हुआ था, उस स्थान का नाम बरेला है, जो मंडला रोड पर स्थित है, वही रानी की समाधि बनी है, जहां गोंड जनजाति के लोग जाकर अपने श्रद्धासुमन अर्पित करते हैं। जबलपुर में स्थित रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय भी इन्हीं रानी के नाम पर बना हुआ है।

इसके अलावा भारत सरकार ने साल 1988 में रानी दुर्गावती के सम्मान में एक पोस्टल स्टैम्प भी जारी किया था ।

रानी दुर्गावती की जीवन गाथा पढ़ने पर मैंने यह पाया कि रानी दुर्गावती और रानी लक्ष्मीबाई के शौर्य में कोई फर्क नहीं है दोनों का इतिहास गौरवशाली है..फर्क सिर्फ इतना है कि रानी दुर्गावती की लडाई मुगल साम्राज्य से थी और लक्ष्मीबाई जी की लडाई अँग्रेज़ों से थी..।रानी दुर्गावती के समय के इतिहासकार रानी दुर्गावती के विषय में इतिहासकारों ने अधिक वर्णन नहीं किया क्योंकि उस वक्त के इतिहास्कार अकबर के विरुद्ध नहीं लिख सकते थे । रानी दुर्गावती ,रानी लक्ष्मी बाई, रानी अवन्ती बाई लोधी इन तीनो रानियों के शौर्य में एक बात की समानता थी कि इन तीनों ने अपने स्वभिमान को सर्वोपरी रखा अपने आत्मसम्मान की रक्षा करते हुए तीनो ने गुलाम बनना स्वीकार ना करते हुए कटार स्वयं को मारकर अपने प्राण त्याग दिये ..।
रानी दुर्गावती उस वक्त के शक्तिशाली बादशाह से अपने स्वाभिमान और आत्मसम्मान के लिये लडी..यह लडाईयाँ बादशाह अकबर के अहम की थी क्योंकि रानी ने अकबर को यह बता दिया था कि वो मुगल साम्राज्य से लडने की हिम्मत रखती है । अकबर का रानी के हाथों इस तरह अपमानित होना युद्ध का कारण बना.।
इसे इत्तेफाक ही कह सकते हैं कि तीनों रानी की शौर्यगाथा एक सी है..।
रानी के शौर्य और पराक्रम के बारे में सुनकर मैं सोच में डूब गई कि उस वक्त की महिला इतनी सशक्त थी..और हम आज नारी सशक्तिकरण के लिये आवाज़ उठा रहे हैं जबकि नारी शताब्दियो से सशक्त ही रही है, जरुरत है तो बस नारी को अपनी शक्ति पहचानने की..!!
राज्य व धर्म की रक्षा के लिए रणभूमि को चुनकर अपने अदम्य साहस व शौर्य का परिचय देने वाली अमर वीरांगना रानी दुर्गावती जी की जयंती पर उन्हें कोटि-कोटि नमन 💐🙏।
अभी हाल में ही मदन महल को देखने जाने के दौरान लिए गए कुछ छायाचित्र …